नाबालिग़ बच्चे की जनाज़ा नमाज़ जिस के वालिदैन में से एक मुसलमान हो और एक काफ़िर हो

अगर नाबालिग़ बच्चा जो अक़ल व शुऊर की उमर को नहीं पहुंचा हो मर जाए और उस के वालिदैन में से एक मुसलमान हो और दूसरा काफ़िर हो, तो उस बच्चे को मुसलमान समझा जाएगा और उस की जनाज़े की नमाज़ अदा की जाएगी.

अलबत्ता अगर नाबालिग़ बच्चा जो अक़ल व शुऊर की उमर को पहुंच चुका हो मर जाए और अपने गैर मुस्लिम बाप या मां के मज़हब को क़बूल कर लिया हो, तो उस को ग़ैर मुस्लिम माना जाएगा और न तो उस की तजहीज़ व तकफ़ीन(इस्लामी तरीक़े के मुताबिक़) की जाएगी और न ही उस की जनाज़ा नमाज़ अदा की जाएगी. [१]

Source: http://ihyaauddeen.co.za/?p=1792


[१] قوله ( كصبي سبي مع أحد أبويه ) أي لا يصلى عليه لأنه تبع لهما للحديث كل مولود يولد على الفطرة فأبواه يهودانه إلى آخره وتقدم في غسل الجنابة معنى الفطرة وأفاد بقوله ( إلا أن يسلم أحدهما ) أنه يصلي عليه لإسلامه تبعا للمسلم منهما لأنه يتبع خيرهما دينا (البحر الرائق ۲/۲٠۳)

Check Also

जनाज़े की नमाज को दोहराना

जब एक मर्तबा जनाज़े की नमाज़ अदा की जाए, तो दोबारा जनाजे की नमाज़ अदा करना जाईज़ नहीं है. मगार यह के अगर मय्यित का वली हाज़िर नहीं था और जनाज़े की नमाज़ उस की इजाज़त के बग़ैर अदा की गई हो, तो वली के लिए जनाज़े की नमाज़ का दोहराना दुरूस्त है...